क्या पीसीओडी में महिलाएं हो सकती है गर्भवती ?

HindiPcos

क्या पीसीओडी में महिलाएं हो सकती है गर्भवती ?

  • July 4, 2024

  • 130 Views

पोलिसिस्टिक ओवरी सिंड्रोम महिलाओं में पायी जाने वाली एक ऐसी हार्मोनल स्थिति है, जो प्रजनन क्षमता के साथ काफी छेड़छाड़ करता है और साथ ही यह महिलाओं में बांझपन जैसी सामान्य और उपचार योग्य समस्या होने का कारण भी बनती है | यदि आपको भी काफी लम्बे समय से गर्भधारण करने में काफी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है तो बेहतर है की आप किसी अच्छे से  चिकित्सक के पास जाकर इस समस्या का अच्छे से इलाज करवाए | 

 

आयुष आयुर्वेद & पंचकर्म सेंटर सीनियर कंसल्टेंट डॉक्टर निहारिका वात्स्यायन जो की आयुर्वेदिक जड़ी- बूटियों में स्पेशलिस्ट है उन्होंने बताया की कई महिलाओं को यह लगता है की पीसीओडी में गर्भधारण करना असंभव है, लेकिन ऐसा कुछ भी नहीं है | पीसीओडी समस्या होने का यह मतलब नहीं है की इससे पीड़ित महिलाएं गर्भवती नहीं हो सकती | गर्भधारण को कंसीव करने की कोशिश दौरान हो सकता है की पीड़ित महिलाएं को कई परेशानीयों का सामना करना पड़ जाए, जिसमे उन्हें अतिरिक्त पड़ाव की आवश्यकता हो सकती है | 

 

पीसीओडी समस्या को दूर करने के लिए और साथ ही स्वस्थ गर्भावस्था की संभावना को आप घरेलु नुस्खे और सही चिकित्सा उपचार के साथ बढ़ा सकते है | आइये जानते है इस समस्या के उत्पन्न होने के मुख्य लक्षण और कारण क्या है :-   

 

पीसीओडी के मुख्य लक्षण क्या है ?  

 

  • इससे पीड़ित महिलाओं को अनियमित मासिक धर्म चक्र होने का संकेत मिलता है | 
  • कई मामलों में महिलाओं को लम्बे समय तक मासिक धर्म न आने की समस्या भी रहती है | 
  • इससे महिलाओं के शरीर के कई हिस्सों में जैसे की पेट,पीठ, छाती और चेहरे पर अधिक मात्रा में बाल उगने शुरू हो जाते है | 
  • वजन अनियमित रूप से बढ़ने लगता है | 
  • चेहरे, पीठ और छाती पर मुहांसे उगने की संभावना अधिक हो जाती है | 
  • तीव्र सिरदर्द या माइग्रेन समस्या होना 
  • नाक, कमर और स्तनों के निचले हिस्से की त्वचा का काला पड़ना 
  • बाल काफी पतले हो जाते है और साथ ही बालों की जड़े भी कमज़ोर हो जाती है, जिससे अधिक मात्रा में बाल झड़ने लग जाते है |

  

पीसीओडी के मुख्य कारण क्या है ? 

 

  • महिलाओं के शरीर में एंड्रोजन नामक पुरुष हार्मोन की एक छोटी-सी इकाई होती है |  हालाँकि पीसीओडी की वजह पुरुष हार्मोन का स्तर बढ़ जाता है, जो महिलाओं के मासिक धर्म दौरान अंडाशय में बन रहे अंडे के विकास को रोकने का कार्य करती है | 

 

  • महिलाओं के शरीर में पाए जाने वाले इन्सुलिन हार्मोन शरीर में ग्लूकोज के स्तर को नियंत्रित करने का कार्य करती है | पीसीओडी स्थिति के दौरान यह इन्सुलिन हार्मोन प्रतिरोध बन जाता है जिसका अर्थ है की रक्त में मौजूद  ग्लूकोज का उसकी कोशिकाओं सही से उपयोग करने में असक्षम हो रहे है | 

 

पीसीओडी का आयुर्वेदिक उपचार कैसे करे ? 

 

डॉक्टर निहारिका वात्स्यायन ने यह भी बताया की इससे पीड़ित कई महिलाये इस समस्या से छुटकारा पाने के लिए एलॉपथी दवाओं का सहारा लेते है, जो इस समस्या को कम करने के बजाये समस्या को और बढ़ाने का कार्य करती है और साथ ही इससे शरीर पर काफी दुष्प्रभाव पड़ते है | यह तो सबको पता है की आयुर्वेदिक दवाओं का कोई दुष्प्रभाव नहीं होता और यह समस्या को जड़ से ख़तम करने में सक्षम भी होता है | 

 

इससे जुड़ी कोई भी जानकारी या फिर इलाज कराने के लिए आप आयुष आयुर्वेद & पंचकर्म सेंटर से परामर्श कर सकते है, यहाँ के सीनियर कंसल्टेंट डॉक्टर निहारिका वात्स्यायन आयुर्वेदिक जड़ी-बूटियों में स्पेशलिस्ट है, जो इस समस्या को आयुर्वेदिक जड़ी-बूटियों के उपयोग से कम करने में आपकी मदद कर सकते है |

Pcos

पीसीओडी (PCOD) को कैसे करें ठीक – जानिए इसको ठीक करने के घरेलु उपाय और तरीके ?

  • November 18, 2023

  • 255 Views

पॉलीसिस्टिक ओवरी सिंड्रोम (पीसीओएस) PCOS महिलाओं में एक आम हार्मोनल विकार है, जो हार्मोनल असंतुलन, अनियमित मासिक धर्म और अंडाशय में सिस्ट की उपस्थिति की विशेषता है। हालाँकि पीसीओडी का कोई निश्चित इलाज नहीं है, लेकिन विभिन्न घरेलू उपचारों और जीवनशैली में बदलाव के माध्यम से इसके लक्षणों को प्रबंधित किया जा सकता है ;

पीसीओडी (PCOD) के लक्षण क्या है ?

  • मिस्ड पीरियड्स, अनियमित पीरियड्स या बहुत हल्के पीरियड्स का आना। 
  • अंडाशय का बड़ा हो जाना और उनमें सिस्ट का बनना। 
  • छाती, पेट और पीठ आदि पर हिर्सुटिज़्म यानी कि घने बाल होना। 
  • वजन बढ़ना, खासकर पेट के आसपास। 
  • मुंहासे या त्वचा का अधिक ऑयली होना। 

कौन-से घरेलु उपाय पीसीओडी (PCOD) के लिए सहायक है ? 

संतुलित आहार : 

संतुलित आहार पीसीओडी के प्रबंधन में महत्वपूर्ण भूमिका अदा करते है। फाइबर, साबुत अनाज, लीन प्रोटीन और स्वस्थ वसा से भरपूर आहार को शामिल करने से रक्त शर्करा के स्तर को नियंत्रित करने और वजन को नियंत्रित करने में मदद मिल सकती है। प्रसंस्कृत खाद्य पदार्थों से परहेज करना और ताजे फल और सब्जियों का चयन करना हार्मोनल संतुलन में सहायता कर सकता है।

नियमित व्यायाम : 

नियमित शारीरिक गतिविधि में संलग्न होना आवश्यक है। व्यायाम वजन प्रबंधन में मदद करते है और इंसुलिन संवेदनशीलता में सुधार करता है, जिससे पीसीओडी के लक्षणों की गंभीरता कम हो जाती है। दिन में कम से कम 30 मिनट तक तेज चलना, योग या शक्ति प्रशिक्षण जैसी गतिविधियाँ फायदेमंद हो सकती है।

हर्बल उपचार : 

कुछ जड़ी-बूटियाँ और पूरक पीसीओडी के लक्षणों को प्रबंधित करने में सहायता कर सकते है। दालचीनी, मेथी और पुदीना मासिक धर्म चक्र को विनियमित करने और इंसुलिन प्रतिरोध के प्रभाव को कम करने में मदद करते पाए गए है। हालाँकि, किसी भी जड़ी-बूटी या पूरक को अपनी दिनचर्या में शामिल करने से पहले एक स्वास्थ्य देखभाल पेशेवर से परामर्श करना आवश्यक है।

तनाव प्रबंधन : 

तनाव पीसीओडी के लक्षणों को बढ़ा सकता है। ध्यान, गहरी सांस लेने के व्यायाम या शौक में शामिल होने जैसी विश्राम तकनीकों का अभ्यास करने से तनाव के स्तर में काफी कमी आ सकती है, जिससे समग्र स्थिति में सुधार हो सकता है।

पर्याप्त नींद : 

नियमित नींद का शेड्यूल बनाए रखना महत्वपूर्ण है। नींद की ख़राब आदतें हार्मोन उत्पादन को बाधित कर सकती है, जिससे पीसीओडी के लक्षण बढ़ सकते है। प्रति रात 7 से 9 घंटे की गुणवत्तापूर्ण नींद का लक्ष्य रखें।

वजन प्रबंधन : 

पीसीओडी से पीड़ित महिलाओं के लिए, वजन प्रबंधन विशेष रूप से महत्वपूर्ण है। वजन में मामूली कमी भी मासिक धर्म चक्र और हार्मोन के स्तर को नियंत्रित करने में मदद कर सकती है। स्वस्थ आहार और नियमित व्यायाम का संयोजन वजन प्रबंधन में सहायता करता है।

कैफीन और अल्कोहल को सीमित करना: 

कैफीन और अल्कोहल दोनों हार्मोन के स्तर और इंसुलिन प्रतिरोध को प्रभावित कर सकते है। इनका सेवन सीमित करना या इनसे पूरी तरह परहेज करना पीसीओडी के लक्षणों पर सकारात्मक प्रभाव डाल सकता है।

नियमित स्वास्थ्य जांच : 

पीसीओडी की निगरानी और प्रबंधन के लिए स्वास्थ्य सेवा प्रदाता के पास नियमित रूप से जाना आवश्यक है। डॉक्टर व्यक्तिगत ज़रूरतों के अनुरूप उचित उपचार, दवाएँ या जीवनशैली में बदलाव का सुझाव दे सकते है।

धूम्रपान से बचें : 

धूम्रपान पीसीओडी के लक्षणों को खराब कर सकता है क्योंकि यह हार्मोन के स्तर को बाधित करता है। धूम्रपान छोड़ने से समग्र स्वास्थ्य में काफी सुधार हो सकता है और पीसीओडी की गंभीरता कम हो सकती है।

जलयोजन : 

पर्याप्त रूप से हाइड्रेटेड रहना आवश्यक है। भरपूर पानी पीने से विषाक्त पदार्थों को बाहर निकालने और समग्र स्वास्थ्य को बनाए रखने में मदद मिलती है।

उपरोक्त्त घरेलु उपायों को अपनाने से पहले एक बार बेस्ट आयुर्वेदिक डॉक्टर से जरूर सलाह लें।

याद रखें :

इन उपायों की प्रभावशीलता हर व्यक्ति में अलग-अलग हो सकती है। आहार या जीवनशैली में महत्वपूर्ण बदलाव करने से पहले एक स्वास्थ्य देखभाल पेशेवर से परामर्श करना महत्वपूर्ण है, क्योंकि वे व्यक्तिगत मार्गदर्शन और उपचार विकल्प प्रदान कर सकते है।

पीसीओडी से बचाव के लिए बेस्ट हॉस्पिटल !

अगर महिलाओं में पीसीओडी के लक्षण नज़र आ रहें है, तो इसके इलाज के लिए आपको उन्हें दीप आयुर्वेदा हॉस्पिटल का चयन करना चाहिए।वहीं यह आयुर्वेदिक तरीके से मरीज़ का इलाज किया जाता है। 

निष्कर्ष :

पीसीओडी का कोई निश्चित इलाज नहीं हो सकता है, इसके लक्षणों को जीवनशैली में बदलाव, आहार में संशोधन और समग्र दृष्टिकोण के संयोजन के माध्यम से प्रभावी ढंग से प्रबंधित किया जा सकता है। इन घरेलू उपचारों को अपनाने और जीवनशैली में धीरे-धीरे समायोजन करके, महिलाएं पीसीओडी के साथ रहते हुए अपने जीवन की गुणवत्ता में काफी सुधार कर सकती है।